आखिर क्यों ताले के नीचे होता है एक छोटा सा छेद? जाने क्या है वजह

ताला छेद

ताला के तल पर छेद: क्या आपने कभी ताला और चाबी को ध्यान से देखा है? अगर हां, तो आपने ताले के नीचे एक छोटा सा छेद जरूर देखा होगा। क्या आप जानते हैं कि यह छेद ताले के नीचे क्यों दिया जाता है? अगर नहीं तो आइए जानते हैं इसके पीछे की वजह।

जब हम घर से बाहर जा रहे होते हैं तो सबसे जरूरी चीज जो हम करना कभी नहीं भूलते हैं वह है घर का दरवाजा बंद करना। घर की सुरक्षा के लिए ताला बहुत जरूरी है। लेकिन क्या आपने कभी गौर किया है कि लॉक का इस्तेमाल करते समय कीहोल के साथ-साथ लॉक में एक और छोटा सा छेद होता है।

क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है?

जैसे ताला हमारे घर की सुरक्षा का काम करता है, वैसे ही ताले पर बना यह छोटा सा छेद ताले की सुरक्षा का काम करता है। अक्सर घर के बाहर ताला लगा रहता है, जिससे कभी-कभी पानी ताले में घुस जाता है। इससे ताले के अंदर जंग लगने से नुकसान होने की आशंका है।

यह भी पढ़े:- अब आधार कार्ड से मिलेगा राशन, अब राशन लेने के लिए जरूरी नहीं राशन कार्ड, बस करना होगा ये काम

लेकिन ताले के तल पर बना यह छेद ताले को जंग लगने से बचाता है और आपका ताला कई सालों तक सुरक्षित रहता है। ताले के नीचे के इस छेद को बहुत सोच समझकर बनाया गया है. दरअसल, जब किसी कारणवश ताले में पानी भर जाता है तो वह पानी ताले के नीचे दिए गए इस छोटे से छेद से निकलता है।

इस तरह लॉक के अंदर की मशीन में जंग नहीं लगती है। यदि यह छेद ताले के तल पर उपलब्ध नहीं कराया गया है, तो पानी भरने के बाद ताला का कोई निकास नहीं होगा और ताला क्षतिग्रस्त हो जाएगा। साथ ही जब ताला कई साल पुराना हो जाता है तो धीरे-धीरे काम करना बंद कर देता है।

कई बार ऐसा होता है कि चाबी ठीक से नहीं घूमती है। ऐसे में आप उस छोटे से छेद की मदद से लॉक के अंदर ऑयलिंग कर सकते हैं। यह ताले और चाबियों को ठीक से काम करने की अनुमति देता है। क्या आप इस प्रयोग को जानते थे?

यह भी पढ़े:- MP NEWS: मध्य प्रदेश के एक जिले में कलेक्टर ने गोलगप्पे पर प्रतिबंध लगाया